बरस जाये यहाँ भी कुछ नूर की बारिशें,
के ईमान के शीशों पे बड़ी गर्द जमी है,
उस तस्वीर को भी कर दे ताज़ा,
जिनकी याद हमारे दिल में धुंधली सी पड़ी है।

Baras Jaye Yahan Bhi Kuch Noor Ki Barishen ,
Ke Emaan Ke Shishon Pe Badi Gard Jami Hai,
Us Tasveer Ko Bhi Kar De Taza,
Jinki Yaad Humare Dil Me Dhudhli Si Padi Hai.

बारिशों से अदब-ए-मोहब्बत सीखो फ़राज़,
अगर ये रूठ भी जाएँ, तो बरसती बहुत हैं।

Barisho Se Adab-E-Mohobbat Seekho Faraz,
Agar Ye Ruth Bhi Jayen To Barasti Bohot Hian.

आज मौसम कितना खुश गंवार हो गया
ख़त्म सभी का इंतज़ार हो गया
बारिश की बूंदे गिरी इस तरह से
लगा जैसे आसमान को ज़मीन से पियार हो गया

Aaj Mausam kistna gavara ho gaya
Khatam sabka intzar ho gaya
Barish ki bunde giri is tarah
Laga jaise aasman ko jami se pyar ho gaya

Barish shayari

भीगी मौसम की भीगी सुरुवात
भीगी सी याद भूली हुई बात
वो भीगी सी आँखें वो भीगा हुआ साथ
मुबारक हो आपको आज की खुबसूरत बस्रात

Bhigi Mausam Ki Bhigi Suruwat
Bhigi Si Yade Bhuli Hui Bat
Wo Bhigi Se Aankhe Wo Bhiga Hua Sath
Mubarak Ho Aapko Aaj Ki Khubsurat Barshat

बारिशें कुछ इस तरह से होती रहीं मुझ पे,
ख्वाहिशें सूखती रहीं और पलकें रोतीं रहीं।

Barishen Kuchh Iss Tarah Se Hoti Rahin Mujh Pe,
Khwahishen Sookhti Rahin Aur Palken Bheegti Rahin.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here